November 28, 2022


मुंबई. ईरान से निर्वासित मेहरान करीमी नासेरी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. उनका निधन पेरिस के चार्ल्स डी गॉल एयरपोर्ट हुआ. बता दें कि मेहरान पर अमेरिकी फिल्ममेकर स्टीवन स्पीलबर्ग ने ‘द टर्मिनल’ नाम की फिल्म बनाई थी, जिसने ऑस्कर समेत कई अवॉर्ड्स जीतें. मेहरान वह शख्स हैं, जो ईरान से निर्वासित हुए थे और अगस्त 1988 से जुलाई 2006 तक पेरिस एयरपोर्ट पर रहे. इस बीच उन पर बनी फिल्म भी साल 2004 में रिलीज हुई थी. रिपोर्ट के मुताबिक मेहरान को एयरपोर्ट के टर्मिनल 2 एफ में दिल का दौरा पड़ा था.

रिपोर्ट में बताया गया कि मेहरान करीमी नासेरी हाल के हफ्तों में फिर से पेरिस के चार्ल्स डी गॉल एयरपोर्ट पर रह रहे थे. वह एयरपोर्ट के टर्मिनल 1 में रहते थे. मेहरान को पेरिस एयरपोर्ट पर प्यार से सर अल्फ्रेड मेहरान कहकर पुकारा जाता था. बता दें साल 1988 में ब्रिटेन ने शरणार्थी के रूप में राजनीतिक शरण देने से इनकार कर दिया था जिसके बाद मेहरान पहली बार एयरपोर्ट पर बस गए थे.

मेहरान करीमी नासेरी की मां स्कॉटिश नागरिक थीं, फिर भी ब्रिटेन ने उन्हें शरण नहीं दी, जिसके बाद उनकी नागरिकता को लेकर भी सवाल उठे थे. वैराइटी के मुताबिक, उन्होंने खुद को स्टेटलेस घोषित करने के बाद एयरपोर्ट पर रहने का विकल्प चुना. वह अपना सामान हमेशा अपने साथ रखते थे. मेहरान ने पहली बार 2006 में अस्पताल में भर्ती होने के बाद एयरपोर्ट को छोड़ दिया था.

मेहरान करीना नासेरी ने एयरपोर्ट पर 18 साल बिताने के बाद पहली बार पढ़ने, डायरी लिखने और अर्थशास्त्र का अध्ययन करने में समय बिताया. स्टीवन स्पीलबर्ग ने साल 2004 में फिल्म ‘द टर्मिनल’ बनाने का फैसला किया. इसमें टॉम हैंक्स लीड रोल निभाया था. फिल्म में टॉम ने एक पूर्वी यूरोपीय व्यक्ति के रूप में अभिनय किया, जो संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रवेश से वंचित होने के बाद न्यूयॉर्क के जॉन एफ कैनेडी हवाई अड्डे पर रहता है.

वैराइटी के मुताबिक, माना जाता है कि उनका जन्म 1945 में ईरानी शहर मस्जिद सुलेमान में हुआ था और उनकी आत्मकथा ‘द टर्मिनल मैन’ 2004 में प्रकाशित हुई थी.

Tags: Hollywood movies



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *