brbreakingnews.com
Estimated worth
• $ 182,69 •

Joshimath Sinking | जोशीमठ भू-धंसाव संबंधी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का सुनवाई से इनकार, जानें क्या कुछ कहा?


joshimath

File Pic

नई दिल्ली: उच्चतम न्यायालय ने उत्तराखंड के जोशीमठ में भू-धंसाव संकट को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने के लिए अदालती हस्तक्षेप के अनुरोध वाली याचिका पर सुनवाई करने से सोमवार को इनकार कर दिया।

प्रधान न्यायाधीश डी. वाई. चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति पी. एस. नरसिम्हा एवं जे. बी. पारदीवाला की पीठ ने याचिकाकर्ता स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती को अपनी याचिका के साथ उत्तराखंड उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाने को कहा। बद्रीनाथ और हेमकुंड साहिब जैसे प्रसिद्ध तीर्थस्थानों एवं अंतरराष्ट्रीय स्कीइंग केंद्र औली का प्रवेश द्वार जोशीमठ भू-धंसान के कारण एक बड़े संकट का सामना कर रहा है।

यह भी पढ़ें

याचिकाकर्ता की दलील है कि बड़े पैमाने पर औद्योगीकरण के कारण भू-धंसाव हुआ है और इससे प्रभावित लोगों को तत्काल वित्तीय सहायता और मुआवजा दिया जाए। इस याचिका में कहा गया है, “मानव जीवन और उनके पारिस्थितिकी तंत्र की कीमत पर किसी विकास की आवश्यकता नहीं है और अगर ऐसी कुछ चीजें होती भी हैं, तो यह राज्य एवं केंद्र सरकार का कर्तव्य है कि इसे तुरंत रोका जाए।”  

HC जल्द सुनवाई का अनुरोध करेंगे: SC

याचिकाकर्ता की और से पेश हुए अधिवक्ता सुशील जैन और पी एन मिश्रा ने अदालत से अनुरोध किया कि, सुप्रीम कोर्ट को ही उनकी याचिका पर सुनवाई करनी चाहिए। जिस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि आप ने पुनर्वास समेत जो मांगें रखी हैं, उनके लिए हाई कोर्ट में आवेदन दे सकते हैं। हम हाई कोर्ट से अनुरोध करेंगे कि अगर आप आवेदन दाखिल करते हैं, तो इस पर जल्द सुनवाई करे।

उल्लेखनीय है कि, जोशीमठ (Joshimath) को भू-धंसाव के कारण दिन-ब-दिन बड़ी चुनौती से सामना करना पड़ रहा है। यहां जमीन धीरे-धीरे नीचे धंसती जा रही है। मकानों, सड़कों और खेतों में बड़ी-बड़ी दरारें पड़ रही हैं। 





Source link

Leave a Comment