December 10, 2022


हाइलाइट्स

जिस जातक की कुंडली में शनि प्रथम भाग में निवास करते हैं, उसकी जिंदगी एश्वर्य पूर्ण होती है.
कुंडली के सातवें भाव में शनि होने पर व्यक्ति को व्यापार में काफी सफलता प्राप्त होती है.

Shani Graha: ज्योतिष शास्त्र में नवग्रहों का महत्व बताया गया है. इन नौ ग्रहों में सबसे अहम शनि ग्रह है. शनि ही ऐसे ग्रह हैं, जो हमारी कुंडली के विशेष भाग में विराजित होकर हमारे जीवन की दशा और दिशा निर्धारित करते हैं. शनि ग्रह हमारे जीवन की सुख-दुख, ऐश्वर्य, धन-धान्य आदि की राह तय करते हैं. पंडित इंद्रमणि घनस्याल बताते हैं कि कुंडली में शनि ग्रह ही व्यक्ति का भविष्य तय करते हैं तो चलिए जानते हैं शनि की कौन सी स्थिति से व्यक्ति का जीवन कैसा होता है.

ऐसा होता है व्यक्ति का ​भविष्य
कुंडली में 12 भावों में किसी भाग में बैठे शनि उसके अनुसार परिणाम देते हैं. जिस जातक की कुंडली में शनि प्रथम भाग में निवास करते हैं, उसकी जिंदगी एश्वर्य पूर्ण होती है. ऐसे व्यक्ति राजा जैसा जीवन जीते हैं. जिस जातक की कुंडली में शनि दूसरे घर में विराजित रहते हैं, वह व्यक्ति काफी बुद्धिमान, दयालु स्वभाव का होता है. ऐसे व्यक्ति का झुकाव धर्म के प्रति ज्यादा होता है. ऐसे व्यक्ति करियर, नौकरी की वजह से परिवार से दूर रहते हैं.

यह भी पढ़ेंः नौकरी और बिजनेस में तरक्की दिलाती है हाथों की ये रेखा, ज्योतिष से जानें इसका महत्व

यह भी पढ़ेंः Vastu Tips: घर में पीतल समेत ये वस्तुएं लाती हैं दरिद्रता, इस तरह करें दूर

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, अगर शनि कुंडली में पंचम भाव में बैठा हो तो वह व्यक्ति रहस्यमय टाइप का होता है. ऐसे व्यक्ति ना किसी से अपनी बात साझा करते हैं या ना ही दूसरों की बातों में रुचि रखते हैं. हालांकि, ऐसे व्यक्ति परिवार के लिए काफी लगाव रखते हैं.

किसी जातक की कुंडली में अगर शनि छठे भाव में रहते हैं तो ऐसे व्यक्ति अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करते हैं. ऐसे व्यक्ति काफी बहादुर और ताकतवर होते हैं. इनके पास धन की कमी भी नहीं रहती है.

कुंडली के सातवें भाव में शनि होने पर व्यक्ति को व्यापार में काफी सफलता प्राप्त होती है. ऐसे व्यक्ति का दांपत्य जीवन काफी सुखमय रहता है. कुंडली के अष्टम भाव में शनि होने पर व्यक्ति की आयु लंबी होती है. लेकिन, उसके परिवार के सदस्यों का लाभ खराब रहता है.

नवम भाव में शनि के रहने से व्यक्ति को तीन घरों का सुख मिलता है. वहीं, दशम भाव में शनि होने पर व्यक्ति का जीवन आनंदपूर्ण होता है. कुंडली में ग्यारहवें भाव में शनि बैठने पर व्यक्ति बहुत धनी होता है. वहीं, बारहवें भाव में शनि बैठा हो तो वह जीवन में सुख लेकर आता है. ऐसे व्यक्ति को हर राह पर सफलता प्राप्त होती है.

Tags: Dharma Aastha, Dharma Culture, Religious, Shanidev



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *