December 10, 2022



<p style="text-align: justify;"><strong>ASEAN Cambodia 2022:</strong> भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शनिवार (12 नवंबर) को यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्री कलेवा के साथ बैठक की. जहां दोनों नेताओं ने क्षेत्र में हालिया घटनाक्रम, परमाणु चिंताओं और यूक्रेन के खिलाफ रूस के युद्ध को खत्म करने के तरीकों पर चर्चा की. जयशंकर ने कंबोडिया की राजधानी फोनों पेन्ह में आसियान-भारत शिखर सम्मेलन से अलग दिमित्री कलेवा से मुलाकात की. उन्होंने ट्वीट किया, यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्री कलेवा से मिलकर खुशी हुई. हमारी चर्चाओं में हालिया घटनाक्रम के संघर्ष, अनाज निर्यात की पहल और परमाणु चिंताएं शामिल थी.</p>
<p style="text-align: justify;">जयशंकर उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ के साथ यात्रा पर हैं, जो यहां आसियान-भारत शिखर सम्मेलन और 17वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे हैं. यूक्रेन के विदेश मंत्री ने ट्विटर पर कहा कि उन्होंने द्विपक्षीय सहयोग और यूक्रेन के खिलाफ रूस के युद्ध को समाप्त करने के तरीकों पर चर्चा की.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>यूक्रेन और रूस के युद्ध पर हुई चर्चा</strong><br />यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्री कलेवा ने ट्वीट किया कि, "मैं और जयशंकर द्विपक्षीय सहयोग और यूक्रेन के खिलाफ रूस के युद्ध को समाप्त करने के तरीकों पर चर्चा करने के लिए मिले. मैंने जोर दिया कि रूस को तुरंत घातक हमले को रोकना चाहिए, यूक्रेन से सभी सैनिकों को वापस बुलाना चाहिए और शांति के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए. हमने ग्लोबल खाद्य सुरक्षा पर भी ध्यान केंद्रित किया".</p>
<p style="text-align: justify;">भारत ने अभी तक यूक्रेन पर रूसी आक्रमण की निंदा नहीं की है और लगातार कहता रहा है कि कूटनीति और बातचीत के माध्यम से संकट का समाधान किया जाना चाहिए. इसी साल फरवरी में यूक्रेन से संघर्ष शुरू होने के बाद प्रधानमंत्री <a title="नरेंद्र मोदी" href="https://www.abplive.com/topic/narendra-modi" data-type="interlinkingkeywords">नरेंद्र मोदी</a> ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ-साथ यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की से कई बार बात की.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>आसियान-भारत संबंधों की 30वीं वर्षगांठ</strong><br />भारत ने ये भी कहा, "काला सागर के जरिए अनाज निर्यात की पहल के निलंबन से खाद्य सुरक्षा और दुनिया के सामने विशेष रूप से दक्षिणी हिस्से में ईंधन और उर्वरक आपूर्ति की चुनौतियों का सामना करने की आशंका है. इस पहल के परिणामस्वरूप यूक्रेन से 90 लाख टन से अधिक अनाज और अन्य खाद्य उत्पादों का निर्यात हुआ.</p>
<p style="text-align: justify;">जयशंकर ने यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्री कलेवा से ASEAN सम्मेलन के आलावा अलग से बात की.&nbsp;इस वर्ष आसियान-भारत संबंधों की 30वीं वर्षगांठ है और इसे आसियान-भारत मैत्री वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है. दक्षिण पूर्वी एशियाई राष्ट्रों का संगठन (ASEAN) के 10 सदस्य देश हैं जिनमें ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपीन, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम शामिल हैं.&nbsp;</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>ये भी पढ़ें: </strong></p>
<p style="text-align: justify;"><strong><a title="बोरिस जॉनसन बोले- UK कैबिनेट में पहले से ज्यादा भारतीय मूल के मंत्री, ऋषि सुनक का भी किया जिक्र" href="https://www.abplive.com/news/world/boris-johnson-said-on-rishi-sunak-even-my-replacement-is-of-indian-origin-2257738" target="_blank" rel="noopener">बोरिस जॉनसन बोले- UK कैबिनेट में पहले से ज्यादा भारतीय मूल के मंत्री, ऋषि सुनक का भी किया जिक्र</a></strong></p>



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *