Pakistan May Have To Face Atrocities On Pok, Rajnath Singh Said » Br Breaking News
December 7, 2022


Rajnath Singh On POK: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह गुरुवार (27 अक्टूबर) को जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में इन्फेंट्री दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए. इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान (Pakistan) को खुली चेतावनी दी. रक्षा मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान उसके कब्जे वाले कश्मीर अर्थात पीओके में लोगों पर अत्याचार कर रहा है और पाकिस्तान को इसके लिए अंजाम भुगतने पड़ेंगे.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ‘शौर्य दिवस’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को फिर से हासिल करने का संकेत देते हुए कहा कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर और लद्दाख में सर्वांगीण विकास का लक्ष्य पीओके के हिस्से ‘‘गिलगित और बाल्टिस्तान तक पहुंचने के बाद’’ ही हासिल किया जाएगा.

गिलगित और बाल्टिस्तान हैं लक्ष्य

रक्षा मंत्री ने कहा कि हमने जम्मू कश्मीर और लद्दाख में विकास की अपनी यात्रा अभी शुरू की है. जब हम गिलगित और बाल्टिस्तान तक पहुंच जाएंगे तो हमारा लक्ष्य पूरा हो जाएगा. गौरतलब है कि भारतीय वायु सेना ने आज ही के दिन 1947 में श्रीनगर पहुंचने की घटना की याद में ‘शौर्य दिवस’ का आयोजन किया.

ताज़ा वीडियो

“आतंकवाद का कोई धर्म नहीं”

पाकिस्तान पीओके में लोगों के साथ दुर्व्यवहार कर रहा है. इसलिए इस पर प्रतिक्रिया देते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि इसके लिए पाकिस्तान को हानि झेलनी पड़ सकती है. साथ ही उन्होंने कहा कि आतंकवाद का कोई धर्म नहीं है. आतंकवादियों का एकमात्र उद्देश्य भारत को निशाना बनाना है.

“धारा 370 हटने से लोगों के खिलाफ भेदभाव खत्म”

रक्षा मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पांच अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 निरस्त करने के केंद्र के फैसले से जम्मू कश्मीर में लोगों के खिलाफ भेदभाव खत्म हो गया. धारा 370 हटाने के बाद जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में राष्ट्रपति को राज्य के संविधान को बर्खास्त करने का अधिकार प्रदान हो गया था. साथ ही भारतीय संसद के बनाए गए कानूनों को सभी जगह समान रूप से लागू किया गया.

यह भी पढे़ं: जम्मू में आतंकी साजिश नाकाम! रेलवे स्टेशन से मिला बैग- 18 डेटोनेटर समेत संदिग्ध पाउडर बरामद



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *