December 10, 2022


महिला मतदाता।

महिला मतदाता।
– फोटो : संवाद

ख़बर सुनें

हिमाचल प्रदेश में 68 विधानसभा क्षेत्रों के 412 प्रत्याशियों का भविष्य शनिवार को ईवीएम में कैद हो गया है। राज्य में लोकतंत्र के इस महायज्ञ में आहुति डालने के लिए मतदाता सुबह ही मतदान केंद्रों में पहुंच गए। छिटपुट घटनाओं के बीच इस चुनाव में बंपर वोटिंग देखने को मिली और मतदान करीब 74.61 प्रतिशत पहुंच गया, हालांकि पिछले चुनाव से कम रहा। अभी बैलेट पेपर से किए गए मतदान की गिनती होनी है। इसलिए मत प्रतिशतता 75 फीसदी से ज्यादा पहुंचेगी। कई बूथों पर पांच बजे के बाद भी मतदान होता रहा। सोलन में 86, कुल्लू में 40, मंडी में 35, ऊना में 26 और हमीरपुर में पांच बूथों पर देर तक मतदान होता रहा। हालांकि कुछ जगह ईवीएम की खराबी और अन्य कारणों के चलते देर रात तक मतदान चलता रहा। नालागढ़ के ढरोली में रात 10:37 बजे तक मतदान हुआ। इसलिए मत प्रतिशतता बढ़ने की संभावना है।

सबसे अधिक मतदान दून विधानसभा क्षेत्र में 85.20 प्रतिशत हुआ, जबकि कसुम्पटी में सबसे कम 57 प्रतिशत रहा। मतदान करने में सिरमौर जिला अव्वल रहा, जहां 78.00 प्रतिशत मतदान हुआ है और सबसे कम वोट हमीरपुर जिले में 71.18 प्रतिशत पड़े़। राज्य के 7,881 मतदान केंद्रों में सुबह 8 बजे से देर शाम तक वोटिंग होती रही। मतदान के बीच राज्य में मौसम साफ रहा, जबकि बर्फ वाले क्षेत्रों में तापमान शून्य से नीचे रहा। इन क्षेत्रों में शून्य से नीचे तापमान होने पर भी मतदाता वोट डालने पहुंचे। प्रदेश में कई स्थानों पर ईवीएम के खराब होने की भी सूचना रही, जिससे चुनाव कुछ समय के लिए बाधित रहा।

चुनावी दंगल में भाजपा, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी (आप), माकपा, बसपा और निर्दलियों समेत 412 प्रत्याशियों में यह रोचक जंग हुई है। इनमें 388 पुरुष और 24 महिला प्रत्याशी हैं। प्रदेश में कुल 55,92,828 मतदाताओं में से 28,54,945 पुरुष, 27,37,845 महिलाएं और 38 थर्ड जेंडर के नाम मतदाता सूचियों में शामिल रहे हैं। पहली बार 80 से अधिक उम्र और दिव्यांग वोटरों को अपने घरों से मत डालने की सुविधा दी गई है। इसके बावजूद कई बुजुर्गों और दिव्यांगों ने मतदान केंद्रों में पहुंचकर वोट डाला। मतदान के लिए 142 बूथ महिला और 37 दिव्यांग कर्मियों के हवाले रहे। प्रदेश भर में 136 आदर्श मतदान केंद्र भी बनाए गए थे। 378 अति संवेदनशील और 903 संवेदनशील मतदान केंद्र रहे। 

 जिलावार मतदान प्रतिशत
जिला              2022      2017       2012        
चंबा               74.02        74         75.84
कांगड़ा            71.68        72        70.59
लाहौल-स्पीति   73.37       73.04    75.68
कुल्लू              76.88        77.09    79.47
मंडी               75.17          75        76.08
हमीरपुर          71.18        69.05    68.04
ऊना              77.28         76        73.03
बिलासपुर       76.21        75         72.94
सोलन             77.00       77.44     77.39
सिरमौर          79.08        82.00     79.93
शिमला          72.05         72.05     69.32
किन्नौर          72.38          75        74.16 

1977 से 2022 तक का मतदान %
वर्ष        मत %
2022    74.61
2017    75.57 
2012    73.51
2007    71.61 
2003    74.51
1998    71.23
1993    71.50
1990    67.76
1985    70.36
1982    71.06
1977    58.57

तापमान में 100 फीसदी मतदान
विश्व में सबसे अधिक समुद्र तल से 15256 फीट की ऊंचाई पर स्थित मतदान केंद्र टशीगंग, जहां शनिवार को अधिकतम तापमान माइनस 6 डिग्री सेल्सियस रहा, लेकिन इसके बावजूद पारंपरिक वेशभूषा में सज-धज कर आए यहां के कुल 52 मतदाताओं जिनमें 30 पुरुषों और 22 महिला मतदाताओं ने विधानसभा चुनाव के लिए 100 फीसदी मतदान किया। लाहौल-स्पीति जिले के इस मतदान केंद्र पर पहली बार 2019 में लोकसभा चुनाव के लिए मतदान हुआ था, तब भी यहां 100 फीसदी वोट पड़े थे। 

विस्तार

हिमाचल प्रदेश में 68 विधानसभा क्षेत्रों के 412 प्रत्याशियों का भविष्य शनिवार को ईवीएम में कैद हो गया है। राज्य में लोकतंत्र के इस महायज्ञ में आहुति डालने के लिए मतदाता सुबह ही मतदान केंद्रों में पहुंच गए। छिटपुट घटनाओं के बीच इस चुनाव में बंपर वोटिंग देखने को मिली और मतदान करीब 74.61 प्रतिशत पहुंच गया, हालांकि पिछले चुनाव से कम रहा। अभी बैलेट पेपर से किए गए मतदान की गिनती होनी है। इसलिए मत प्रतिशतता 75 फीसदी से ज्यादा पहुंचेगी। कई बूथों पर पांच बजे के बाद भी मतदान होता रहा। सोलन में 86, कुल्लू में 40, मंडी में 35, ऊना में 26 और हमीरपुर में पांच बूथों पर देर तक मतदान होता रहा। हालांकि कुछ जगह ईवीएम की खराबी और अन्य कारणों के चलते देर रात तक मतदान चलता रहा। नालागढ़ के ढरोली में रात 10:37 बजे तक मतदान हुआ। इसलिए मत प्रतिशतता बढ़ने की संभावना है।

सबसे अधिक मतदान दून विधानसभा क्षेत्र में 85.20 प्रतिशत हुआ, जबकि कसुम्पटी में सबसे कम 57 प्रतिशत रहा। मतदान करने में सिरमौर जिला अव्वल रहा, जहां 78.00 प्रतिशत मतदान हुआ है और सबसे कम वोट हमीरपुर जिले में 71.18 प्रतिशत पड़े़। राज्य के 7,881 मतदान केंद्रों में सुबह 8 बजे से देर शाम तक वोटिंग होती रही। मतदान के बीच राज्य में मौसम साफ रहा, जबकि बर्फ वाले क्षेत्रों में तापमान शून्य से नीचे रहा। इन क्षेत्रों में शून्य से नीचे तापमान होने पर भी मतदाता वोट डालने पहुंचे। प्रदेश में कई स्थानों पर ईवीएम के खराब होने की भी सूचना रही, जिससे चुनाव कुछ समय के लिए बाधित रहा।

चुनावी दंगल में भाजपा, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी (आप), माकपा, बसपा और निर्दलियों समेत 412 प्रत्याशियों में यह रोचक जंग हुई है। इनमें 388 पुरुष और 24 महिला प्रत्याशी हैं। प्रदेश में कुल 55,92,828 मतदाताओं में से 28,54,945 पुरुष, 27,37,845 महिलाएं और 38 थर्ड जेंडर के नाम मतदाता सूचियों में शामिल रहे हैं। पहली बार 80 से अधिक उम्र और दिव्यांग वोटरों को अपने घरों से मत डालने की सुविधा दी गई है। इसके बावजूद कई बुजुर्गों और दिव्यांगों ने मतदान केंद्रों में पहुंचकर वोट डाला। मतदान के लिए 142 बूथ महिला और 37 दिव्यांग कर्मियों के हवाले रहे। प्रदेश भर में 136 आदर्श मतदान केंद्र भी बनाए गए थे। 378 अति संवेदनशील और 903 संवेदनशील मतदान केंद्र रहे। 

 जिलावार मतदान प्रतिशत

जिला              2022      2017       2012        

चंबा               74.02        74         75.84

कांगड़ा            71.68        72        70.59

लाहौल-स्पीति   73.37       73.04    75.68

कुल्लू              76.88        77.09    79.47

मंडी               75.17          75        76.08

हमीरपुर          71.18        69.05    68.04

ऊना              77.28         76        73.03

बिलासपुर       76.21        75         72.94

सोलन             77.00       77.44     77.39

सिरमौर          79.08        82.00     79.93

शिमला          72.05         72.05     69.32

किन्नौर          72.38          75        74.16 

1977 से 2022 तक का मतदान %

वर्ष        मत %

2022    74.61

2017    75.57 

2012    73.51

2007    71.61 

2003    74.51

1998    71.23

1993    71.50

1990    67.76

1985    70.36

1982    71.06

1977    58.57

तापमान में 100 फीसदी मतदान

विश्व में सबसे अधिक समुद्र तल से 15256 फीट की ऊंचाई पर स्थित मतदान केंद्र टशीगंग, जहां शनिवार को अधिकतम तापमान माइनस 6 डिग्री सेल्सियस रहा, लेकिन इसके बावजूद पारंपरिक वेशभूषा में सज-धज कर आए यहां के कुल 52 मतदाताओं जिनमें 30 पुरुषों और 22 महिला मतदाताओं ने विधानसभा चुनाव के लिए 100 फीसदी मतदान किया। लाहौल-स्पीति जिले के इस मतदान केंद्र पर पहली बार 2019 में लोकसभा चुनाव के लिए मतदान हुआ था, तब भी यहां 100 फीसदी वोट पड़े थे। 





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *