December 10, 2022


प्रदीप सिंह कटारिया पर गोलियां बरसते हमलावर

प्रदीप सिंह कटारिया पर गोलियां बरसते हमलावर
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई समर्थित कनाडा में बैठे खालिस्तानी आतंकी गोल्डी बरार ने डेरा अनुयायी प्रदीप सिंह कटारिया की हत्या के लिए दो दिन पहले आदेश दिए थे। उसके शूटरों में शामिल फरीदकोट, पंजाब के दो शूटर (फरार) को हत्याकांड की जिम्मेदारी सौंपी थी। इन शूटर ने ही अनुयायी कटारिया की एक दिन पहले हत्या के लिए रैकी की थी। इनको प्रदीप की हत्या करने के बाद पंजाब में एक और बड़ी वारदात करनी थी। इसके लिए गोल्डी बरार के आदेश का इंतजार कर रहे थे। बरार ने इनको प्रदीप कटारिया की हत्या करने के बाद पंजाब में ही रुके रहने के आदेश दिए थे।

स्पेशल सेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गोल्डी बरार चारों ग्रुप के संपर्क में था। उसने दो दिन पहले जितेंद्र को प्रदीप कटारिया की हत्या करने के लिए कहा था। हत्या के लिए रैकी पंजाब के शूटरों ने की थी। हरियाणा के शूटरों को पंजाब के फरीदकोट में पंजाब के शूटरों ने रिसीव किया था। एक अज्ञात व्यक्ति हत्या से एक दिन पहले शूटर को हथियार देकर गया था। अनुयायी की हत्या के बाद इनकी गोल्डी से बात हुई थी। उसने इनको एक और वारदात के लिए पंजाब में ही रुकने के लिए कहा था। 

जितेंद्र ने पूछताछ में खुलासा किया है कि वह डेढ़ वर्ष से गोल्डी के संपर्क में था। उसके कहने पर उसने अंबाला में दोहरे हत्याकांड को अंजाम दिया था। अंबाला के दोहरे हत्याकांड में मारे गए पीड़ित काला राणा के विरोधी थे, इसलिए उनकी हत्या की गई थी। जितेंद्र ने गोल्डी के कहने पर लारेंस बिश्रोई गठजोड़ के विरोधी की रोहतक में हत्या की थी। स्पेशल सेल के अधिकारियों के अनुसार, पंजाब में हत्या की वारदातों के लिए पाकिस्तान से हथियार आ रहे हैं। प्रदीप कटारिया के हत्या के लिए भी पाकिस्तान से हथियार आए हैं।

सहानुभूति के लिए करवाई गई है हत्या
स्पेशल सेल के पुलिस अधिकारियों के अनुसार, गोल्डी मानता है कि पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद सिख समुदाय के लोग उससे नाराज हो गए थे। उसे लगा कि अब उसे सहानुभूति नहीं मिलेगी। सिख समुदाय के लोगों की नाराजगी दूर करने के लिए उसने डेरा अनुयायी की हत्या करवाई है। इस बात का उसने कई बार जितेंद्र से जिक्र किया था।

विस्तार

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई समर्थित कनाडा में बैठे खालिस्तानी आतंकी गोल्डी बरार ने डेरा अनुयायी प्रदीप सिंह कटारिया की हत्या के लिए दो दिन पहले आदेश दिए थे। उसके शूटरों में शामिल फरीदकोट, पंजाब के दो शूटर (फरार) को हत्याकांड की जिम्मेदारी सौंपी थी। इन शूटर ने ही अनुयायी कटारिया की एक दिन पहले हत्या के लिए रैकी की थी। इनको प्रदीप की हत्या करने के बाद पंजाब में एक और बड़ी वारदात करनी थी। इसके लिए गोल्डी बरार के आदेश का इंतजार कर रहे थे। बरार ने इनको प्रदीप कटारिया की हत्या करने के बाद पंजाब में ही रुके रहने के आदेश दिए थे।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *