brbreakingnews.com
Estimated worth
• $ 182,69 •

Bihar’s New Dgp Alok Raj!: Notification Waiting, But Congratulations To 1989 Batch Ips – बिहार के नए डीजीपी आलोक राज!: नोटिफिकेशन बाकी, मगर मिलने लगीं 1989 बैच के आईपीएस को बधाइयां


सार

19 दिसंबर को बिहार के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एस. के. सिंघल के रिटायर होने के एक दिन पहले रविवार को पुलिस मुख्यालय ने 1989 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी आलोक राज को नया डीजीपी मान लिया। पुष्टि के लिए नोटिफिकेशन आना बाकी है।

आलोक राज आम लोगों से जुड़ाव के लिए पहचाने जाते हैं।

आलोक राज आम लोगों से जुड़ाव के लिए पहचाने जाते हैं।
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

19 दिसंबर को बिहार के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एस. के. सिंघल के रिटायर होने के एक दिन पहले रविवार को पुलिस मुख्यालय ने 1989 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी आलोक राज को नया डीजीपी मान लिया। नोटिफिकेशन आने तक इसकी पुष्टि संभव नहीं, लेकिन रविवार को उन्हें बधाइयां मिलने लगीं। आलोक राज चर्चित आईपीएस अधिकारी तो हैं ही, एक कलाकार के रूप में समाज से अच्छा जुड़ाव भी रखते हैं और डाउन टू अर्थ रहते हुए सभी की बातें सुनते भी हैं। वर्तमान डीजीपी सिंघल पर सबसे दूर रहने का आरोप लगता रहा था, क्योंकि उनके पहले चर्चित आईपीएस अधिकारी गुप्तेश्वर पांडेय ने डीजीपी बनने के बाद भी लोगों के बीच रहते थे। एस. के. सिंघल सबसे ज्यादा चर्चा में पिछले दिनों तब आए थे, जब एक बिजनेसमैन ने उन्हें जज के रूप में बार-बार कॉल कर उनसे अपने आईपीएस मित्र का फेवर करा लिया था।

विस्तार

19 दिसंबर को बिहार के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एस. के. सिंघल के रिटायर होने के एक दिन पहले रविवार को पुलिस मुख्यालय ने 1989 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी आलोक राज को नया डीजीपी मान लिया। नोटिफिकेशन आने तक इसकी पुष्टि संभव नहीं, लेकिन रविवार को उन्हें बधाइयां मिलने लगीं। आलोक राज चर्चित आईपीएस अधिकारी तो हैं ही, एक कलाकार के रूप में समाज से अच्छा जुड़ाव भी रखते हैं और डाउन टू अर्थ रहते हुए सभी की बातें सुनते भी हैं। वर्तमान डीजीपी सिंघल पर सबसे दूर रहने का आरोप लगता रहा था, क्योंकि उनके पहले चर्चित आईपीएस अधिकारी गुप्तेश्वर पांडेय ने डीजीपी बनने के बाद भी लोगों के बीच रहते थे। एस. के. सिंघल सबसे ज्यादा चर्चा में पिछले दिनों तब आए थे, जब एक बिजनेसमैन ने उन्हें जज के रूप में बार-बार कॉल कर उनसे अपने आईपीएस मित्र का फेवर करा लिया था।





Source link

Leave a Comment