brbreakingnews.com
Estimated worth
• $ 182,69 •

Bihar Hooch Tragedy: Woman In Spurious Liquor Business, 40 Businessmen In Millionaire Financier’s Network – Bihar Hooch Tragedy: जहरीली शराब कारोबार में महिला भी, करोड़पति फाइनेंसर के नेटवर्क में 40 से ज्यादा धंधेबाज


शराब और धंधेबाजों के ठिकानों पर पुलिस की दबिश तेज।

शराब और धंधेबाजों के ठिकानों पर पुलिस की दबिश तेज।
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

जहरीली शराब से मौतों की सूची भले दो दिन पहले ही सारण में 74 पार चली गई, लेकिन सोमवार तक राज्य सरकार 38 मौतों पर ही अटकी है। वह भी जहरीली शराब की पुष्टि बगैर। आबकारी मंत्री सुनील कुमार ने विधानसभा में भी यही आंकड़ा बताया है। इस बीच जहरीली शराब कारोबार में सारण से एक महिला और दो बड़े धंधेबाजों को गिरफ्तार किया गया है। इनसे पूछताछ में खुलासा हुआ है कि करोड़पति फाइनेंसर के आसपास चलने वाले इस धंधे में 40 से ज्यादा धंधेबाज हैं। 

कुछ ही दिनों में लागत की दोगुनी राशि जमा करते हैं फाइनेंसर
31 सदस्यीय स्पेशल इन्वेस्टिगेटिव टीम ने कुल नौ लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनमें दो बड़े शराब माफिया हैं। शनिवार को पहले माफिया अनिल सिंह पकड़ में आया, फिर उसकी निशानदेही पर रविवार को माफिया अखिलेश राय उर्फ अखिलेश कुमार यादव हत्थे चढ़ा। इनसे पूछताछ में  शराब के नेटवर्क की जानकारी मिली है। टीम के एक सदस्य के अनुसार, करोड़पति फाइनेंसर के साथ 40 से ज्यादा लोगों का नेटवर्क है। यह सभी फाइनेंसर के तौर पर टारगेट कर पांच-छह थाना क्षेत्रों में स्पिरिट और शराब की खेप मंगाकर भेजते हैं। फिर अलग-अलग धंधेबाज सप्लायर और लाइनर जैसा काम करते हैं। फाइनेंसर को कुछ ही दिनों में लागत का दोगुना मिल जाता है, जिसके कारण इनकी संपत्ति का हिसाब लगाना मुश्किल हो रहा है। जहरीली शराब कांड के मुख्य अभियुक्तों में मुकेश सिंह, मनोरंजन सिंह, अनिल सिंह, सुशील सिंह, निरंजन सिंह, अजय पाण्डेय, मंगल राय, सुरेश राय आदि का नाम है, जबकि दो मुख्य अभियुक्त कुणाल सिंह और रामजी साह की जहरीली शराब से ही मौत हो चुकी है।

मशरक में इतने बड़े कांड के बाद भी घर के अंदर मिली देसी शराब
इधर, जहरीली शराब कांड के बहाने चल रही जांच में चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। इतने बड़े कांड के बावजूद मशरक दक्षिण टोला मुसहरी से 5 लीटर स्पिरिट देसी शराब के साथ गिरफ्तारी हो रही है। देसी शराब के साथ गिरफ्तार महिला कारोबारी सरिता देवी (पति- निकेश राऊत) ने गोपालबाड़ी गांव के मुकेश सिंह से शराब लेने की बात स्वीकारी है। निकुम्भ सेमरी गांव में छापेमारी के दौरान 2 लीटर शराब के साथ राज कुमार सिंह के बेटे मंटू सिंह को गिरफ्तार किया गया, जबकि जलेश्वर सिंह का बेटा राजकुमार सिंह फरार हो गया। मशरक स्टेशन रोड़ निवासी शैलेश साह के बेटा विनोद कुमार को 180 एमएल के दो टेट्रा पैक अंग्रेजी शराब की डिलीवरी के दौरान पकड़ा गया। 
 

इधर, सारण में ही शराब के खिलाफ अलख जगाने निकलीं महिलाएं
जहरीली शराब कांड से सुर्खियों में रहे सारण की महिलाओं ने अब शराब के खिलाफ खुद ही मोर्चा संभाल लिया है। सोमवार को एफएफआई नारी सेना की ओर से फेस ऑफ फ्यूचर इंडिया एवं महिला हेल्पलाइन सारण के तत्वावधान में शराबबंदी हेतु जन जागरूकता रैली निकाली गई। रैली स्लम बस्ती की गलियों से होते हुए सारण एकेडमी ढाला, नगरपालिका चौक थाना चौक होते हुए नगरपालिका चौक तक पहुंची। यहां शराबी रूपी पुतले को महिलाओं ने झाड़ू से जमकर पीटा। महिला हेल्पलाइन सारण की परियोजना प्रबंधक ने महिलाओं का हौंसला बढ़ाया। संगीत शिक्षिका प्रियंका कुमारी ने शराबियों पर जोरदार प्रहार किया। मंटू कुमार यादव ने शराबबंदी को समाज की जिम्मेमदारी बताया, जबकि अधिवक्ता मुनि देवी ने कहा शराब को उम्र घटाने वाला कारक बताया। लाडली विंग की संयोजक रचना पर्वत, तरैया प्रखंड संयोजक ओम प्रकाश आजाद, उषा देवी, मुन्नी देवी, बसंती देवी, रूबी कुमारी, इंदु कुमारी, शुभांती देवी, बबीता देवी, राजकुमारी देवी, कबूतरी देवी, चंदेश्वरी देवी, देवंती देवी, संपति देवी आदि ने शराब के खिलाफ नारेबाजी करते हुए जुलूस का नेतृत्व किया।

विस्तार

जहरीली शराब से मौतों की सूची भले दो दिन पहले ही सारण में 74 पार चली गई, लेकिन सोमवार तक राज्य सरकार 38 मौतों पर ही अटकी है। वह भी जहरीली शराब की पुष्टि बगैर। आबकारी मंत्री सुनील कुमार ने विधानसभा में भी यही आंकड़ा बताया है। इस बीच जहरीली शराब कारोबार में सारण से एक महिला और दो बड़े धंधेबाजों को गिरफ्तार किया गया है। इनसे पूछताछ में खुलासा हुआ है कि करोड़पति फाइनेंसर के आसपास चलने वाले इस धंधे में 40 से ज्यादा धंधेबाज हैं। 

कुछ ही दिनों में लागत की दोगुनी राशि जमा करते हैं फाइनेंसर

31 सदस्यीय स्पेशल इन्वेस्टिगेटिव टीम ने कुल नौ लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनमें दो बड़े शराब माफिया हैं। शनिवार को पहले माफिया अनिल सिंह पकड़ में आया, फिर उसकी निशानदेही पर रविवार को माफिया अखिलेश राय उर्फ अखिलेश कुमार यादव हत्थे चढ़ा। इनसे पूछताछ में  शराब के नेटवर्क की जानकारी मिली है। टीम के एक सदस्य के अनुसार, करोड़पति फाइनेंसर के साथ 40 से ज्यादा लोगों का नेटवर्क है। यह सभी फाइनेंसर के तौर पर टारगेट कर पांच-छह थाना क्षेत्रों में स्पिरिट और शराब की खेप मंगाकर भेजते हैं। फिर अलग-अलग धंधेबाज सप्लायर और लाइनर जैसा काम करते हैं। फाइनेंसर को कुछ ही दिनों में लागत का दोगुना मिल जाता है, जिसके कारण इनकी संपत्ति का हिसाब लगाना मुश्किल हो रहा है। जहरीली शराब कांड के मुख्य अभियुक्तों में मुकेश सिंह, मनोरंजन सिंह, अनिल सिंह, सुशील सिंह, निरंजन सिंह, अजय पाण्डेय, मंगल राय, सुरेश राय आदि का नाम है, जबकि दो मुख्य अभियुक्त कुणाल सिंह और रामजी साह की जहरीली शराब से ही मौत हो चुकी है।

मशरक में इतने बड़े कांड के बाद भी घर के अंदर मिली देसी शराब

इधर, जहरीली शराब कांड के बहाने चल रही जांच में चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। इतने बड़े कांड के बावजूद मशरक दक्षिण टोला मुसहरी से 5 लीटर स्पिरिट देसी शराब के साथ गिरफ्तारी हो रही है। देसी शराब के साथ गिरफ्तार महिला कारोबारी सरिता देवी (पति- निकेश राऊत) ने गोपालबाड़ी गांव के मुकेश सिंह से शराब लेने की बात स्वीकारी है। निकुम्भ सेमरी गांव में छापेमारी के दौरान 2 लीटर शराब के साथ राज कुमार सिंह के बेटे मंटू सिंह को गिरफ्तार किया गया, जबकि जलेश्वर सिंह का बेटा राजकुमार सिंह फरार हो गया। मशरक स्टेशन रोड़ निवासी शैलेश साह के बेटा विनोद कुमार को 180 एमएल के दो टेट्रा पैक अंग्रेजी शराब की डिलीवरी के दौरान पकड़ा गया। 

 





Source link

Leave a Comment