November 28, 2022


नई दिल्‍ली. बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था के महामहोपाध्याय भद्रेशदास स्वामी जी ने बाली, इंडोनेशिया में आयोजित आर 20 धर्म मंच में हिन्‍दू धर्म के प्रमुख वक्‍ता के रूप में संबोधित किया. इस मौके पर 400 से अधिक प्रतिनिधि शामिल हुए. गौरतलब है कि जी 20 सदस्‍य देशों के धार्मिक गुरुओं को एक साथ लाने की वैश्विक पहल आर 20 है. सम्‍मेलन के उद्घाटन सत्र को इंडोनेशिया के राष्‍ट्रपति जोको विडोडो ने संबोधित किया.

बीएपीएस के तीर्थस्‍वरूप स्‍वामी जी ने बताया कि भद्रेशदास स्वामी जी भारत के प्रमुख दार्शनिकों में से एक हैं. उन्‍होंने प्रमुख स्‍वामी जी महाराज की जन्‍म शताब्‍दी समारोह में श्रद्धांजलि अर्पित कर धार्मिक सद्भाव का संदेश दिया. उन्‍होंने बताया कि 2023 में आर 20 सम्मेलन नई दिल्ली में आयोजित किया जाएगा.

भद्रेशदास स्वामी जी ने अपने संबोधन में वेदों, उपनिषदों, श्रीमद भगवद गीता, भगवान स्वामीनारायण और भारतीय विचारों के महान स्‍कूलों के सार्वभौमिक कालातीत ज्ञान को आकर्षित करते हुए, ‘धर्म’ की सार्वभौमिक परिभाषा को प्रोत्साहित किया. साथ ही शांति, प्रेम दोस्ती, सम्मान और करुणा जैसे धार्मिक मूल्यों को का वर्णन किया. इस मौके पर श्री राम जन्मभूमि ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष स्वामी गोविंद देव गिरि महाराज और अखिल भारतीय चिन्मय युवा केंद्र के निदेशक स्वामी मित्रानंद सरस्वती ने सनातन हिंदू धर्म पर प्रकाश डाला.

सम्‍मेलन के प्रमुख आयोजकों में से एक और डलास विश्वविद्यालय (यूएसए) में राजनीति में प्रतिष्ठित शोध विद्वान डॉ टिमोथी सैमुअल शाह ने एक इंटरव्‍यू में भद्रेशदास स्वामी जी को जी 20 धार्मिक मंच के माध्‍यम से प्राचीन दर्शन और धार्मिक परंपरा पर ज्ञान देने के लिए धन्‍वयाद दिया. दुनिया के सबसे बड़े मुस्लिम संगठन के अध्यक्ष क्याई हाजी याह्या चोलिल स्टाकफ ने भद्रेशदास स्वामी और भारत के अन्य हिंदू नेताओं शिखर सम्मेलन शामिल होने के लिए धन्‍यवाद दिया.

Tags: Hindu, Religion, Religion Guru



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *