December 10, 2022


MCD Elections 2022: सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम (AIMIM) और भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद के संगठन आजाद समाज पार्टी (एएसपी) ने शुक्रवार को साथ मिल कर एमसीडी चुनाव 2022 (MCD Elections 2022) लड़ने की घोषणा की है. इसके लिए दोनों पार्टियों का गठबंधन (Aliance) भी हुआ है और इस गठबंधन को हिस्सेदारी मोर्चा (Hessedari Morcha) नाम दिया गया है.

गठबंधन ने शहर के अल्पसंख्यक और दलित बहुल इलाकों में 100 वार्डों पर दिल्ली नगर निगम का चुनाव लड़ने की घोषणा की. दोनों दलों के नेताओं ने संवाददाता सम्मेलन में बताया कि ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) 100 में से 68 वार्ड पर जबकि शेष 32 पर आजाद समाज पार्टी (ASP) लड़ेगी.

“दिल्ली में दलितों और मुस्लिमों की उपेक्षा”

एआईएमआईएम दिल्ली इकाई के अध्यक्ष कलीमुल हफीज ने बताया, ‘‘दोनों पार्टियों के नगर निगम चुनाव एक साथ लड़ने के फैसले को उनके प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी और चंद्रशेखर आजाद ने अनुमति दी थी.’’ हफीज ने आरोप लगाया कि बीजेपी और आप दोनों ने उन इलाकों की पूरी तरह उपेक्षा की है जहां दिल्ली में मुस्लिम और दलित रहते हैं. उन्होंने कहा कि दिल्ली की कुल आबादी में मुस्लिम 15 प्रतिशत और दलित 16 प्रतिशत हैं.

News Reels

“दिल्ली को दो धड़ों में बांटा”

कलीमुल हाफिज ने कहा कि बीजेपी, आप और कांग्रेस मनुवादी सोच की पार्टी है. इन तीनों दलों ने दिल्ली को दो भागों में तब्दील कर दिया है. एक तो संपन्न लोगों की दिल्ली है और दूसरी वो है जिसमें गरीब, मजदूर, अल्पसंख्यक और दलित वर्ग रहते हैं जो 85 फीसदी हैं. ये 85 फीसदी बनाम 15 फीसदी की लड़ाई है. उन्होंने कहा कि हम मिलकर इनको सत्ता से हटाएंगे. पूरी दिल्ली में गंदगी फैलाई है और विधानसभा में बैठे आम आदमी पार्टी ने पूरी दिल्ली में शराब के ठेके खुलवा कर गरीबों को बर्बाद किया.

ये भी पढ़ें:

कूड़े के पहाड़ या फिर भ्रष्टाचार… दिल्ली MCD चुनाव में किन मुद्दों की है सबसे ज्यादा चर्चा?



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *