November 28, 2022
सर्दी के मौसम से पहले बढ़ रही है डेंगू के मरीजों की संख्‍या, ऐसे रखें बच्‍चों का विशेष ध्‍यान


हाइलाइट्स

डेंगू बच्‍चों को अधिक प्रभावित कर सकता है.
डेंगू से बचाव के लिए बच्‍चों को नियमित रूप से इंसेक्‍ट रिपेलेंट लगाएं.
बच्‍चों की इम्‍यूनिटी बढ़ाने के लिए हेल्‍दी डाइट दें.

Special Care of Children From Dangue: डेंगू बुखार एक ट्रॉपिकल डिजीज है जो मच्‍छरों द्वारा काटे जाने पर वायरस के कारण होती है. किड्स हेल्‍थ के अनुसार डेंगू को ब्रेकबोन फीवर या हड्डी तोड़ बुखार के नाम से भी जाना जाता है. ये वायरस पूरे शरीर में चकत्‍ते, दर्द और बुखार पैदा कर सकता है. हालांकि डेंगू बुखार के अधिकांश मामले माइल्‍ड होते हैं जो लगभग एक सप्‍ताह के अंदर अपने आप ही कम होने लगते हैं. लेकिन कुछ मामले गंभीर रूप भी ले सकते हैं जिसमें तेज बुखार, कमजोरी और प्‍लेटलेट्स कम होना जैसे लक्षण हो सकते हैं.

डेंगू किसी भी उम्र के व्‍यक्ति को हो सकता है. खासकर बुजुर्ग और बच्‍चे आसानी से इसकी चपेट में आ सकते हैं. कमजोर इम्‍यूनिटी के कारण डेंगू के लक्षण बच्‍चों में अधिक दिखाई दे सकते हैं. बच्‍चों को डेंगू से बचाने के लिए सावधानी बरतनी बेहद जरूरी है. खासकर स्‍कूल जाने वाले बच्‍चों का विशेष ध्‍यान रखना होगा.

ऐसे रखें बच्‍चों का विशेष ध्‍यान
– मच्‍छरों को घर में न आने दें इसके लिए दरवाजे और खिड़कियों को बंद रखें.
– बच्‍चे यदि बाहर जाते हैं तो उन्‍हें फुल शर्ट, पैंट, जूते और मोजे पहनाएं ताकि शरीर का कोई भी हिस्‍सा खुला न रहे.
– रात में सोते समय मच्‍छरदानी का प्रयोग करें.
– बच्‍चे को मुख्‍य रूप से इंसेक्‍ट रिपेलेंट लगाएं. डीईईटी या नींबू और नीलगिरी का तेल भी लगा सकते हैं.
– बच्‍चों को दोपहर के समय बाहर भेजें क्‍योंकि सुबह और शाम के समय मच्‍छर ज्‍यादा एक्टिव होते हैं.
– मच्‍छरों को पनपने के लिए जगह न दें. डेंगू मच्‍छर पानी में अपने अंडे देते हैं इसलिए घर में खाली कंटेनर या टायर में पानी जमा न होने दें.
– घर में यदि पेट्स हैं तो उसकी साफ-सफाई का भी विशेष ध्‍यान रखें.
– बच्‍चे की इम्‍यूनिटी बढ़ाने के लिए न्‍यूट्रीशियस डाइट दें.
– योग और एक्‍सरसाइज कराएं.

ये भी पढ़ें: क्या हरी उल्टी का आना खतरनाक है, जानिए क्या है इसका मतलब

डेंगू के लक्षण
– तेज बुखार
– मांसपेशियों और हड्डियों में दर्द
– सिरदर्द
– चकत्‍ते
– नाक या मसूढ़ों से खून आना
– सर्दी या जुखाम
– प्‍लेटलेट्स कम होना

डेंगू लाइलाज‍ बिमारी नहीं है लेकिन समय रहते उपचार कराना बेहद जरूरी है. डेंगू का कोई भी लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें.

ये भी पढ़ें: Diabetes की तरह नहीं है High Uric Acid की समस्या, डॉक्टर ने बताया दोनों बीमारियों में अंतर

Tags: Health, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *