November 28, 2022
रेड मीट के सेवन से फायदे की जगह नुकसान ज्यादा, इस तरह शरीर को करता है खोखला, जानें


हाइलाइट्स

प्रोसेस्ड रेड मीट का सेवन हार्ट डिजीज और आंत में कैंसर का खतरा बढ़ा सकता है
बिना प्रोसेस्ड मीट से भी टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम है

Harmful effect of Red meat: वैसे तो मीट के सेवन से एक साथ कई पोषक तत्वों को प्राप्त किया जा सकता है. लेकिन रेड मीट से फायदे के मुकाबले नुकसान कई गुना ज्यादा होता है. रेड मीट में प्रोटीन, विटामिन और आयरन की भरपूर मात्रा होती है, लेकिन अध्ययनों से पता चलता है कि रेड मीट, विशेष रूप से प्रोसेस्ड रेड मीट का सेवन हार्ट डिजीज और आंत में कैंसर का खतरा बढ़ा सकता है. इस तरह कई बीमारियां देकर यह धीरे-धीरे शरीर को खोखला कर देता है. हालांकि आपको यह भी जानना है कि रेड मीट होता क्या है. आमतौर पर पॉर्क, हैम और पिग्स से प्राप्त कट्स को रेड मीट माना जाता है. इसके अलावा लैम और बीफ भी रेड मीट में ही आता है. रेड मीट का अगर लगातार सेवन किया जाए तो फायदे से कहीं ज्यादा यह नुकसान करता है. द ग्लोबल डायबेट्स कम्युनिटी की वेबसाइट के मुताबिक हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन में भी पाया गया था कि अनप्रोसेस्ड मीट के सेवन से भी टाइप 2 का खतरा बढ़ जाता है.

इसे भी पढ़ें- हार्ट की बीमारी से दूर रहने के लिए अपनाएं ये 5 तरीके, हमेशा रहेगी हेल्दी

रेड मीट से नुकसान
अध्ययन में रेड मीट के सेवन को हृदय रोग, कोलोरेक्टल कैंसर और टाइप 2 मधुमेह के बढ़ते मामलों से जोड़ कर देखा गया है. अगर इसे प्रोसेस्ड कर दिया जाए तो खतरा कई गुना बढ़ जाता है. हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन ने उस समय काफी सनसनी फैला दी जब उसने एक अध्ययन के आधार पर दावा किया था कि बिना प्रोसेस्ड मीट से भी टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम है. अध्ययन के मुताबिक एक दिन में 110 ग्राम से अधिक अनप्रोसेस्ड रेड मीट खाने वालों में मधुमेह का खतरा 20 प्रतिशत अधिक था. अध्ययन में हैमबर्गर को भी अनप्रोसेस्ड रेड मीट में शामिल किया गया था जिसकी कुछ विशेषज्ञों ने आलोचना भी की थी. अध्ययन में दावा किया गया कि जो लोग प्रोसेस्ड मीट का सेवन करते हैं उनमें डायबिटीज होने का जोखिम 50 प्रतिशत ज्यादा है.

प्रोसेस्ड रेड मीट क्या है
प्रोसेस्ड रेड मीट में ऐसे मांस उत्पाद शामिल हैं जिन्हें संरक्षित करने के लिए कई तरह के केमिकल मिलाए जाते हैं. इसमें बिना पका मीट भी शामिल हो सकता है. पकाने से पहले इसमें कई चीजें मिलाकर बहुत दिनों तक फ्रीज में रख दिया जाता है. हॉट डॉग, सॉसेज, बर्गर, कॉर्न्ड बीफ, सलामी, जर्की आदि प्रोसेस्ड रेड मीट के उदाहरण हैं. कच्चे रेड मीट में कई तरह के हानिकारक बैक्टीरिया मौजूद रहते हैं. अगर रेड मीट को सही से पकाया नहीं जाता तो इसके सेवन से और ज्यादा नुकसान है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *