बिना इंसुलिन के भी टाइप- 2 डायबिटीज को कर सकते हैं कंट्रोल, यहां जानें क्या है इसका तरीका » Br Breaking News
December 7, 2022
बिना इंसुलिन के भी टाइप- 2 डायबिटीज को कर सकते हैं कंट्रोल, यहां जानें क्या है इसका तरीका


हाइलाइट्स

डायबिटीज को मैनेज करने के लिए मोटापे को कम करें.
डायबिटीज को कम करने के लिए जरूरी है लाइफस्‍टाइल में बदलाव.
टाइप-2 डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए मेडिकेशन का सहारा लिया जा सकता है.

Control Type-2 Diabetes Without Insulin-  डायबिटीज अब एक कॉमन बीमारी के रूप में सामने आ रही है जिसका शिकार बड़ों के साथ कम उम्र के लोग भी हो रहे हैं. डायबिटीज होने पर न सिर्फ लाइफस्‍टाइल बल्कि आदतों में भी बदलाव करने पड़ते हैं. कुछ मामलों में टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों को ब्‍लड शुगर लेवल को मैनेज करने के लिए इंसुलिन इंजेक्‍शन की आवश्‍यकता होती है. कई बार बाहर से इंसुलिन लेने से शरीर को उसकी आदत हो जाती है जिसे लाइफलॉन्‍ग लेना पड़ सकता है.

टाइप-2 डायबिटीज एक लाइफस्‍टाइल डायबिटीज है जिसे बिना इंसुलिन के मैनेज किया जा सकता है. हालांकि अचानक बढ़ी हुई डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए मेडिकेशन का सहारा लिया जा सकता है लेकिन डायबिटीज को मैनेज करने के लिए छोटे-छोटे बदलाव किए जा सकते हैं चलिए जानते हैं इनके बारे में.

ओरल मे‍डिकेशन
टाइप-2 डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए इंसुलिन की बजाए ओरल मेडिकेशन ली जा सकती है. हेल्‍थलाइन के अनुसार ओरल मेडिकेशन लेने से ब्‍लड शुगर लेवल को कम किया जा सकता है. ज्‍यादातर डॉक्‍टर्स पेशेंट्स को डीपीपी-4 इनहेबिटर्स, मेग्‍लीटिनाइड्स, डोपामाइन-2 एगोनिस्‍ट और अल्‍फा ग्‍लूकोसिडेज इनहेबिटर्स दवाएं लेने की सलाह देते हैं. दवाओं से किसी प्रकार का साइड इफेक्‍ट नहीं होता और इसकर आदत भी नहीं पड़ती.

लाइफस्‍टाइल में बदलाव
डायबिटीज को मैनेज करने में लाइफस्‍टाइल का अहम रोल होता है. यदि व्‍यक्ति की लाइफस्‍टाइल अच्‍छी है तो ब्‍लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है. टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों को संतुलित डाइट फॉलो करनी चाहिए. साथ ही खाना खाने का समय निर्धारित करना चाहिए जिससे पेट अधिक देर तक खाली न रहे. लेट खाना खाने से ब्‍लड शुगर लेवल बढ़ सकता है. इसके अलावा प्रतिदिन 30 मिनट एक्‍सरसाइज के लिए निकालना बेहद जरूरी है. एक्‍सरसाइज में वॉक, रनिंग, साइकलिंग और एरोबिक्‍स को शामिल किया जा सकता है. साथ ही पर्याप्‍त नींद लेना भी सेहत पर असर डाल सकती है.

इसे भी पढ़ें: 5 महत्वपूर्ण विटामिंस जो बालों को देंगे भरपूर पोषण, रहेंगे जड़ों से मजबूत

करें मोटापे को कंट्रोल
डायबिटीज बढ़ने का एक कारण मोटापा भी हो सकता है इसलिए वेट को कंट्रोल करना जरूरी है. मोटापा कम करने के लिए एक्‍सरसाइज और डाइट का सहारा लिया जा सकता है. कई लोग मोटापा कम करने के लिए सर्जरी भी कराते हैं लेकिन सर्जरी कराना सबके लिए पॉसिबल नहीं होता. मोटापा कम करने के लिए कैलोरी इंटेक कम किया जा सकता है.

डायबिटीज में लापरवाही से बढ़ जाता है शुगर लेवल, इन बातों का रखें ध्यान

समय पर कराएं चेकअप
डायबिटीज एक लाईलाज बीमारी है जो लाइफलॉन्‍ग व्‍यक्ति के साथ रहती है. लेकिन इसे मैनेज किया जा सकता है. डायबिटीज कंट्रोल होने के बाद लोग लापरवाही बरतने लगते हैं जिसके कारण ये फिर से ट्रिगर कर जाती है. डायबिटीज कंट्रोल होने के बाद भी रेग्‍यूलर चेकअप कराना चाहिए ताकि इसे आसानी से मैनेज किया जा सके.

Tags: Diabetes, Health, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *