क्या टीबी की वजह से प्रेग्नेंसी में आती है समस्या, जानें जेनिटकल टीबी के कारण, लक्षण और इलाज &Raquo; Br Breaking News
November 29, 2022
क्या टीबी की वजह से प्रेग्नेंसी में आती है समस्या, जानें जेनिटकल टीबी के कारण, लक्षण और इलाज


हाइलाइट्स

अंडकोष को जेनिटल टीबी काफी ज्यादा प्रभावित करता है
आईवीएफ और आईयूआई का इस्तेमाल किया जा सकता है

Cause of Genital TB: टीबी गंभीर बिमारियों में से एक है. इसमें हमारे फेफड़े सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं. लेकिन, इस बारे में शायद ही किसी को पता होगा कि, टीबी  फैलोपियन ट्यूब के साथ गर्भाशय और जननांगो को भी इन्फेक्टेड कर सकता है. अगर टीबी का इलाज ठीक तरह से नहीं किया गया तो, इससे बांझपन की समस्या तक झेलनी पड़ सकती है. वहीं इसके अलावा कोई महिला अगर प्रेगनेंसी का प्लान कर रही है और वो प्लान फेल हो रहा है तो इसके पीछे की वजह जेनिटल टीबी हो सकता है.

देखा जाए तो वास्तव में ना सिर्फ महिलाओं में बल्कि पुरुषों में भी टीबी की वजह से बांझपन हो सकता है. ज्यादातर कपल्स को इसके बारे में तब पता चलता है जब वो किसी विशेषज्ञ से सलाह लेने जाते हैं.

किस उम्र में टीबी का खतरा ज्यादा?
एनसीबीआई के अनुसार के मुताबिक टीबी की बीमारी किसी भी उम्र में हो सकती है. इसके अलावा लगभग 20 से 50 साल की उम्र तक की महिलाओं को जेनिटल टीबी होने का खतरा हो सकता है. वहीं पुरुषों की मिडिल एज में उन्हें ये बीमारी हो सकती है.

महिलाओं में जेनिटल टीबी के लक्षण
पीरियड्स में गड़बड़ी, पेट में ऐंठन, योनि से बदबूदार खून आना और सेक्स के बाद ब्लीडिंग जैसे लक्षण महिलाओं में नजर आते हैं. जेनिटल टीबी महिलाओं के गर्भाशय को बुरी तरह से प्रभावित कर सकता है. इसका शुरूआती इलाज काफी चैलेंजिंग हो सकता है. कई तरह के टेस्ट की मदद से इस समस्या जा निदान किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: स्किन केयर रूटीन में शामिल करें बादाम का दूध और पाएं ग्लोइंग त्वचा, बढ़ती उम्र में भी दिखेंगी यंग

पुरुषों में जेनिटल टीबी के लक्षण
पुरुषों में प्रोटेस्ट ग्रन्थि, एपिडीडीमिस और अंडकोष को जेनिटल टीबी काफी ज्यादा प्रभावित करता है. इससे स्पर्म में कमी और कई तरह के हार्मोंस उत्पाद करने में समस्या हो सकती है. इससे निपटने के लिए इनफर्टिलिटी टेस्ट का सहारा लिया जाता है. समय रहते इसका इलाज करना बेहद जरूरी होता है.

ये भी पढ़ें: स्किन केयर में ऐसे करें आलू का इस्तेमाल, फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान

कैसे करें जेनिटल टीबी का इलाज
-आईवीएफ और आईयूआई का इस्तेमाल किया जा सकता है.
-लाइफस्टाइल में बदलाव और खाने पीने से लेकर सोने और जागने के समय में सुधार.
-इम्युनिटी को स्ट्रांग करने वाले फूड्स को डाइट में शामिल करें.
-जेनिटल टीबी से बचने के लिए तुरंत किसी जानकर से सलाह लें.
-तनाव से दूर रहने के लिए हर रोज योगा और एक्सरसाइज करें.

टीबी की बिमारी ना सिर्फ फेफड़ों बल्कि शरीर के कई अंगों को प्रभावित करती है. महिलाओं में टीबी की समस्या काफी खतरनाक होती है. इसके उपचार से ही इससे बचा जा सकता है.

Tags: Health, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *